लाइफस्टाइल

अगर अपनाएंगे ये प्लान तो रिटायरमेंट के बाद ज़िंदगी हो जाएगी बेहतर

अगर अपनाएंगे ये प्लान तो रिटायरमेंट के बाद ज़िंदगी हो जाएगी बेहतर

ये बात तो हम सभी जानते हैं कि अचानक से आ जाने वाली इमरजेंसी या भविष्य के कुछ कामों के लिए सेविंग बहुत जरूरी होती है. इन सभी से ज्यादा रिटायरमेंट के लिए सेविंग का होना बहुत जरूरी है. अधिकतर लोग ये बात जानते हुए भी कि रिटायरमेंट के लिए सेविंग कितनी जरूरी है फिर भी सेविंग्स करने के बारे मे सोचते ही रह जाते हैं, लेकिन इस काम की शुरूआत नहीं कर पाते. ये सोचते-सोचते कई बार हमारे हाथ से समय भी निकल जाता है और हम सेविंग्स को करने के लिए बहुत लेट हो जाते हैं. कई बार तो लोग ये प्लानिंग बनाने में ही रह जाते हैं कि किस तरह से अपने रिटायरमेंट के लिए सेंविग्स करें. बहुत से लोग सही प्रोडक्ट ना चुन पाने के कारण चूक जाते हैं. हम यहां आपको कुछ ऐसे विकल्प बताने जा रहे हैं जिनमें आप रिटायरमेंट के बाद के लिए अपने रुपये को सेव कर सकते हैं. इन प्लान्स के बाद शायद आप अपने रिट्यरमेंट के बाद की ज़िंदगी को बेहतर बनाने के लिए देर ना करते हुए तुरंत ही रूपये इनवेस्ट करना शुरू कर दें-

नेशनल पेंशन सिस्टम

इसका रेग्युलेशन पेंशन फंड रेग्युलेटरी ऐंड डिवेलपमेंट अथॉरिटी की ओर से किया जाता है. इस स्कीम में आपको 60 साल की आयु तक इन्वेस्ट करना होता है. इसके बाद आपको लाइफ इंश्योरेंस कंपनी से हर साल जमा की गई 40 फीसदी रकम से एक राशि मिलती है, जबकि बाकी हिस्से को आप निकाल सकते हैं. एनपीएस के तहत निवेश की गई रकम पर कोई टैक्स नहीं लगता है, लेकिन इससे आपको मिलने वाली सालाना वृत्ति पर जरूर टैक्स लगता है.

पब्लिक प्रविडेंट फंड

पब्लिक प्रविडेंट फंड स्कीम लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट का अच्छा विकल्प है. पीपीएफ की अवधि 15 साल की होती है, लेकिन इससे मिलने वाले ब्याज पर टैक्स का न लगना एक महत्वपूर्ण फीचर है. सरकार की ओर से हर तिमाही में पीपीएफ पर मिलने वाले ब्याज की दर तय की जाती है. इस पर निवेश की गई राशि और ब्याज पूरी तरह सेफ होते हैं, इसलिए यह सुरक्षित निवेश है.

अटल पेंशन योजना

अटल पेंशन योजना में निवेश के लिए जरूरी है कि आपकी आयु 18 से 40 वर्ष के बीच हो. इसके अलावा आपका सेविंग अकाउंट होना भी जरूरी है। अटल पेंशन योजना के तहत 5 प्लान हैं. इनमें आपको महीने में 1,000 रुपये, 2000, 3000, 4,000 और 5,000 रुपये पेंशन के तौर पर मिलते हैं. 60 साल की आयु के बाद इस स्कीम के तहत पेंशन मिलनी शुरू होगी. आप अपनी निवेश की क्षमता के मुताबिक किसी एक प्लान को चुन सकते हैं.

एंप्लॉयीज प्रविडेंट फंड

ईपीएफ के तहत एंप्लॉयी को स्कीम के लिए एक निश्चित रकम हर महीने देनी होती है. इतनी ही राशि कंपनी की ओर से जमा की जाती है. रिटायरमेंट पर एंप्लॉयी को अपने और एंप्लॉयर की ओर से जमा की गई पूरी राशि ब्याज सहित मिल जाती है. इस स्कीम के तहत एंप्लॉयर आपकी बेसिक सैलरी, डीए और रिटेनिंग अलाउंस का 12 फीसदी हिस्सा जमा करता है. इतनी ही रकम एंप्लॉयी के हिस्से से भी जमा होती है.

म्युचूअल फंड स्कीम्स

रिटायरमेंट से संबंधित 4 म्युचूअल फंड स्कीम्स हैं. फ्रैंकलिन इंडिया पेंशन फंड, यूटीआई रिटायरमेंट बेनिफिट पेंशन फंड, रिलायंस रिटायरमेंट फंड और एचडीएफसी रिटायरमेंट सेविंग्स फंड. इनके जरिए आप भविष्य में महंगाई के अनुपात में रिटर्न हासिल करने में सक्षम होते हैं. अलग-अलग स्कीमों के लिए लॉक-इन पीरियड अलग होता है.

लाइफ इंश्योरेंस पेंशन प्लान्स

लाइफ इंश्योरेंस कंपनियों की ओर से ऑफर किए जाने वाले यूनिट-लिंक्ड पेंशन प्लान्स में आप निवेश कर सकते हैं. इनके तहत किसी भी इंश्योरर के परिजनों को उसकी मौत के बाद लाभ मिलने तय होते हैं, इसके अलावा रिटायरमेंट ऐज पर भी आपको पूरे लाभ मिलते हैं.

Share This Post

Lost Password

Register