टेक्नोलॉजी

व्हॉट्सऐप पर मैसेज फॉरवर्डिंग की तय हुई लिमिट, जानें कितनी बार फॉरवर्ड कर पाएंगे मैसेज

व्हॉट्सऐप पर मैसेज फॉरवर्डिंग की तय हुई लिमिट, जानें कितनी बार फॉरवर्ड कर पाएंगे मैसेज

अगर आप भी व्हॉट्सऐप यूज़र हैं तो एक साथ 5 से ज्यादा मैसेज नहीं भेज पाएंगे. व्हॉट्सऐप ने फेक न्यूज़ के प्रसार को रोकने के लिए भारतीय यूज़र्स के लिए मैसेज भेजने की लिमिट तय कर दी है. कंपनी ने यह भी कहा है कि यूज़र्स अब क्विक फारवर्ड बटन का भी इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे, जिसका ऑप्शन मीडिया मैसेज के बाद होता है. व्हॉट्सऐप ने यह बदलाव सिर्फ भारत में रहने वाले यूज़र्स के लिए किया है.

व्हॉट्सऐप का कहना है कि भारत में लोग दूसरे देशों से ज्यादा मैसेज, वीडियो या फोटोज़ फॉरवर्ड करते हैं. दुनियाभर में व्हॉट्सऐप के 100 करोड़ यूज़र्स हैं, जिसमें करीब 20 करोड़ भारत में ही हैं. पिछले दिनों ऐसी घटनाएं हुई हैं, कि फेक न्यूज़ के तेजी से प्रसार होने के चलते देशभर में कई अप्रिय घटनाएं हुई हैं. व्हॉट्सऐप पर फेक न्यूज़ को लेकर भारत सरकार ने भी कंपनी को नोटिस भेजा है. इस बारे में व्हॉट्सऐप ने भी पिछले दिनों गाइडलाइंस जारी की थी.

सरकार ने व्हॉट्सऐप को भेजा दूसरा नोटिस

सरकार ने व्हॉट्सऐप को गुरूवार को एक और नोटिस भेजकर फेक और भ्रामक मैसेज के प्रसार को रोकने के लिए प्रभावी समाधान करने को कहा था. पिछले काफी दिनों से देशभर के अलग-अलग क्षेत्रों में झूठी ख़बरों के मैसेज या वीडियो लोगों को भेज कर अफवाह फैलायी जा रही है. सरकार ने चेतावनी दी है कि अफवाहों के प्रसार में माध्यम बनने वाले भी दोषी माने जाएंगे और उपाय न करने पर उन्हें भी कानूनी कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा. सरकार ने देश में फेक और भ्रामक संदेश फैलने के कारण नाराज भीड़ द्वारा निर्दोष व्यक्तियों की हत्या समेत हिंसा के कई मामले सामने आने के बाद कड़ा रुख अख्तियार किया है.

सरकार पहले भी व्हॉट्सऐप को इस तरह की खबरों और मैसेज पर रोक लगाने के लिए चेतावनी दे चुकी है. सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने जारी बयान में कहा कि बैड एलीमेंट्स द्वारा जब ऐसी खबरें फैलाई जाती हैं तो माध्यम बनने वाले जिम्मेदारी और जवाबदेही से नहीं बच सकते हैं. मंत्रालय ने इसे लेकर व्हॉट्सऐप को अधिक प्रभावी समाधान लाने को कहा है.

ताबिक, नए बदलावों से यह सुनिश्चित होगा कि इंस्टेंट मेसेजिंग ऐप एक प्राइवेट मेसेजिंग ऐप ही रहे और गलत जानकारियां व अफवाहों को फैलने से रोका जा सके. हालांकि, जरूरत है कि वॉट्सऐप फॉरवर्ड किए जाने वाले टेक्स्ट मेसेज के लिए भी कुछ करे. लोग आसानी से इन टेक्स्ट मेसेज को कॉपी कर पेस्ट करके फॉरवर्ड कर देते हैं. ऐसा करने से हाल ही में आया फॉरवर्डेड लेबल भी नहीं दिखता.

वॉट्सऐप ने अपने ब्लॉग पोस्ट में आगे कहा कि हम यूज़र्स की सेफ्टी और प्राइवेसी को लेकर प्रतिबद्ध हैं. इसीलिए ऐप में एंड-टू-एंड इनक्रिप्शन दिया गया है. हम लगातार ऐप में नए फीचर्स लाने पर काम करेंगे ताकि इसे और बेहतर बनाया जा सके. वॉट्सऐप के अमेरिकी मुख्यालय और भारतीय कामकाज से जुड़े सीनियर अधिकारियों ने चुनाव आयोग के अलावा बीजेपी और कांग्रेस के नेताओं से मुलाकात की है. वॉट्सऐप का कहना है कि भारत में आगामी चुनावों के दौरान अपने प्लेटफॉर्म का दुरुपयोग रोकने की कोशिश के तहत उसने ये मुलाकातें की हैं.

Share This Post

Lost Password

Register