लाइफस्टाइल

आयकर भरते समय न करें ये गलतियां, वरना होगा नुकसान

आयकर भरते समय न करें ये गलतियां, वरना होगा नुकसान

जितना जरूरी है इनकम टैक्स भरना, उतना ही जरूरी है इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) फाइल करना. इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई है जोकि बस नजदीक ही है. यदि आप टैक्स रिटर्न फाइलिंग तय तारीख पर नहीं कर पाते हैं तो आपको पेनल्टी भरनी पड़ सकती है, और यह बता दें कि यह पेनल्टी आपको इसके बावजूद भरनी पड़ सकती है जबकि आपने समय से इनकम टैक्स भर दिया हो. 31 जुलाई के बाद और 31 दिसंबर के बीच में रिटर्न भरने पर 5,000 रुपये का जुर्माना लगेगा. अगर आपने 31 दिसंबर तक भी रिटर्न नहीं भरा तो अब 10,000 रुपये जुर्माने का प्रावधान है. आईटीआर फाइल करते समय आपको कुछ गलतियों से बचना बेहद जरूरी है. तो आइए जानते हैं इनकम टैक्स रिटर्न फाइलिंग में कौन सी ऐसी गलतियां हैं जो अक्सर लोग कर बैठते है-

1- अपने इनकम सोर्स की पूरी जानकारी नहीं देना

यह एक कॉमन गलती है जबकि इनकम टैक्स रिटर्न भरने का पहला नियम ही यही होता है कि अपनी आय के किसी भी स्रोत को छिपाएं न बल्कि बताएं. ऐसा नहीं होने पर हैवी पेनल्टी का प्रावधान है. आप किसी समस्या में न फंसें, इसके लिए जरूरी है कि वैसी इनकम की भी जानकारी दें जो करयोग्य नहीं है. सेविंग अकाउंट, फिक्स्ड डिपॉजिट और अन्य निवेश से होने वाली आय बताई जानी चाहिए. अगर आपने कोई जानकारी छिपाई तो इसे कर चोरी समझा जाएगा. आपको इनकम टैक्स नोटिस भी मिल सकता है.

2- इनकम टैक्स रिटर्न भरने में देर करना

यह भी एक बड़ी आम गलती है. अक्सर लोग लापरवाही कर ही देते हैं, पर आप ऐसा न करें. इस बार आपने 31 जुलाई की डेडलाइन मिस की तो आपपर 5000 रुपये तक का जुर्माना लग सकता है. अगर आप 31 दिसंबर तक भी आईटीआर नहीं भर पाए तो यह जुर्माना 10 हजार रुपये तक हो सकता है. देर से आईटीआर दाखिल करने पर आप टैक्स रिफंड पर इंट्रेस्ट भी नहीं हासिल कर पाएंगे.

3- अपनी व्यक्तिगत जानकारियों में गलती

इनकम टैक्स रिटर्न भरने के दौरान ऐसी गलतियां भी खूब होती हैं. इस बार आप सतर्कता से इनसे बचिए क्योंकि नियम कठोर हो गए हैं. आपके लिए यहां यह जानना जरूरी है कि एक छोटी सी गलती भी आपके दरवाजे इनकम टैक्स विभाग का नोटिस पहुंचा सकती है. आईटीआर भरते समय आप यह सुनिश्चित कर लें कि आपका मोबाइल नंबर, ईमेल, बैंक विवरण, पता, जन्मतिथि, पैन नंबर आदि का उल्लेख बिल्कुल सही हो. आप आईटीआर जमा करने से पहले एक बार नहीं बल्कि तीन पर रीचेक करें.

4- गलत फॉर्म चुनना

आईटीआर भरने के लिए आपको सही फॉर्म का चुनाव करना होगा. किसे कौन-सा फॉर्म भरना है, इसके लिए नियम हैं. आय स्रोत और अन्य डिटेल्स के मुताबिक आईटीआर भरने के लिए कई फॉर्म आते हैं. उदाहरण के लिए सैलरी पाने वालो को आईटीआर 1 फाइल का इस्तेमाल करना चाहिए. अगर आप सैलरी के अलावा अन्य इन्वेस्टमेंट से भी आय अर्जित करते हैं तो आईटीआर 2 भरना चाहिए.

5- आय की जानकारी नहीं देना या कम देना

इसे आईटीआर दाखिल करने के लिए सबसे बड़ी गलती माना जाता है. यह गलती आपको भारी समस्या में डाल सकती है. सैलरी पाने वाले कर्मचारियों या व्यवसायियों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे अपनी आय की जानकारी को कम करके न दिखाएं. ITR दाखिल करते समय अक्सर लोग विभिन्न बचत खातों और निश्चित जमा रकम से अर्जित ब्याज की जानकारी नहीं देते हैं. ऐसा न करें. रिटर्न दाखिल करते समय एफडी से मिला ब्याज भी न छिपाएं.

Lost Password

Register