Loading...
देश

इनके हैदराबाद आने से पहले भिखारियों पर आई शामत

इनके हैदराबाद आने से पहले भिखारियों पर आई शामत

हैदराबाद में भिखारी मुक्त शहर अभियान की शुरुआत की गई। पुलिस आयुक्त एम महेंद्र रेड्डी द्वारा बुधवार को जारी आदेशों के बाद हैदराबाद में भिखारी मुक्त शहर अभियान शुरू हुआ। हैदराबाद पुलिस ने यह कहते हुए शहर की सड़कों पर भीख मांगने पर रोक लगा दी है कि इससे यातायात और पैदल चलने वाले लोगों की आवाजाही बाधित होती है और उनपर खतरा पैदा होता है। पुलिस कर्मियों ने चंचलगुडा जेल में हाल ही में स्थापित पुनर्वसन केंद्र में विभिन्न जगहों पर धन मांगने वाले लोगों को स्थानांतरित करना शुरू कर दिया है।

28 नवंबर से आयोजित होने वाले तीन दिन के आठवें वार्षिक ग्लोबल आंत्रप्रेन्योर (जीईएस) 2017 से पहले यह आदेश दिया गया है। सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप के शामिल होने की संभावना है। सार्वजनिक स्थलों और शहर की मुख्य सड़कों के चौराहों पर भीख मांगने पर दो महीने की अवधि के लिए निर्धारित आदेश को पुलिस आयुक्त ने 8 नवम्बर सुबह 6 बजे से 7 जनवरी सुबह 6 बजे तक के लिए लागू किया है।

उल्लंघनकर्ताओं को भारतीय दंड संहिता की धारा 188 और हैदराबाद शहर पुलिस अधिनियम, 1348 फस्ली, टी.एस. रोकथाम अधिनियम, 1977 और जे जे अधिनियम 2000 के प्रावधानों के अनुसार दंडित किया जाएगा।
आपको बता दें कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप इस महीने भारत आ सकती हैं। वे हैदराबाद में 28 से 30 नवंबर तक चलने वाले ‘ग्लोबल आंत्रप्रेन्योर समिट’ (जीईएस) में हिस्सा लेने आएंगी। अमेरिकी राष्ट्रपति की बेटी के हैदराबाद विजिट से पहले ही यहां की पुलिस ने भिखारियों को सड़कों से हटाना शुरू कर दिया है।
नोटिफिकेशन में हैदराबाद के पुलिस कमिश्नर एम महेंदर रेड्डी ने कहा, “भीख मांगने की वजह से गाड़ियों के मूवमेंट में परेशानी आती है और सड़कों पर उपद्रव मचता है। इसके बाद 15 दिसंबर से शहर में विश्व तेलुगू सम्मेलन भी होना है, जो 5 दिनों तक चलेगा, इसमें हजारों तेलुगू एनआरआई के शामिल होने की संभावना है।

 

 

 

[घर बैठे रोज़गार पाने के लिए Like करें हमारा Facebook Page और मेसेज करें JOB]

Lost Password

Register