Loading...
खेल

इसलिए हाफ मैराथन के आयोजन पर गिर सकती है गाज

इसलिए हाफ मैराथन के आयोजन पर गिर सकती है गाज

एक बार फिर दौड़ेगी दिल्ली। जी हां दिल्ली में हाफ मैराथन के 10 वें संस्करण का 19 नवंबर को आयोजन किया जाएगा। इससे पहले पिछले साल भी दिल्ली में हाफ मैराथन का आयोजन किया गया था और उससे पहले भी इसका आयोजन किया जा चुका है। पिछले साल लगभग 34 हजार धावकों ने दिल्ली में स्थित जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम से दौड़ लगाई थी। ऐसे में इस बार उम्मीद है कि लगभग 35 हजार धावक हाफ मैराथन में भाग ले सकते हैं। चलिए अब आपको बताते हैं कि आखिर क्यों इस हाफ मैराथन में गाज गिर सकती है।

मैराथन पर गिर सकती है प्रदूषण की गाज

दिल्ली-एनसीआर बढ़ते प्रदूषण की मार झेल रहा है। ऐसे में दिल्ली में 19 नवंबर को होने वाली हाफ मैराथन पर प्रदूषण की गाज गिर सकती है। दरअसल, दिल्ली सरकार को इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने बढ़ते प्रदूषण का मुद्दा उठाते हुए खत लिखा है। अपनी चिंता जताते हुए इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को 19 नवंबर को होने वाली दिल्ली हाफ मैराथन को रद्द करने की अपील की है। आईएमए ने इसके पीछे दलील दी है कि 19 नवंबर तक प्रदूषण के स्तर में बढ़ोतरी हो सकती है। आईएमए की मानें तो अगर उस दौरान मैराथन आयोजित की जाती है तो इसमें भाग लेने वाले लाखों लोगों की सेहत पर विपरीत असर पड़ सकता है। वहीं दिल्ली सरकार इस पर विचार कर रही है और जल्द ही इसको लेकर स्थिति साफ हो सकती है।

चिकित्सा के होंगे खास इंतजाम

हाफ मैराथन में प्रतिभागियों की सुविधाओं का खास ख्याल रखा गया है। पानी और चिकित्सा के खास इंतजाम किए गए हैं। जगह-जगह बेस कैंप लगाए जाएंगे। साथ ही कैमरों से निगरानी की जाएगी। सीनियर सिटीजन के लिए खासतौर पर इंतजाम किए गए हैं। मैराथन की शुरुआत और आखिरी में एक-एक बेस कैंप लगाए जाएंगे। वहीं सिक्योरिटी के भी खास इंतजाम किए गए हैं।

 

 

 

 

[घर बैठे रोज़गार पाने के लिए Like करें हमारा Facebook Page और मेसेज करें JOB]

Lost Password

Register