Loading...
अजब-गजब

एक मंदिर ऐसा भी जहां भगवान को चढ़ाई जाती है शराब

एक मंदिर ऐसा भी जहां भगवान को चढ़ाई जाती है शराब

देश में स्थित मंदिरों में पूजा की पद्धति लगभग एक जैसा ही है। सभी मंदिरों में जहां भगवान की पूजा के लिये फूल, मालाएं, नारियल और नकद या आभूषणों का दान किया जाता हैं वहीं महाराष्ट्र के उपनगर चेम्बूर में एक ऐसा छोटा सा मंदिर भी है जहां भगवान को प्रसन्न करने का अलग ही तरीका है। यह मंदिर है बाबा भैरोंनाथ का, जहां भगवान को शराब चढ़ाकर प्रसन्न किया जाता है।

हर साल कार्तिक एकादशी का श्रद्धालुओं को इंतजार रहता है। श्रद्धालु हर साल ‘कार्तिक एकादशी’ को अपने देवता को व्हिस्की, रम, वोडका और अन्य किस्म की शराब चढ़ा सकें। बता दें कि इस मंदिर का निर्माण मात्र 4 दशक पहले हुआ था। मंदिर श्मशान के पास स्थित है।

मंदिर में कार्तिक एकादशी पर काफी भीड़ रहती है। हिंदू पंचांग के अनुसार, एकादशी के दिन मंदिर आने वाले श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है। इस मंदिर में देवता पर चढ़ाई गई शराब को बाद में श्रद्धालु प्रसाद के तौर पर ग्रहण करते हैं। भैरोनाथ को भगवान शिव का अवतार माना जाता है।

मंदिर के पुजारी रमेश लोहाना ने कहा कि ‘‘कार्तिक एकादशी हमारे लिये सबसे शुभ दिन होता है। इस दिन का हमलोग पूरे साल इंतजार करते हैं। सभी धर्मों से हजारों श्रद्धालु इस दिन मंदिर आते हैं और शराब चढ़ाते हैं। यह परंपरा बीते 40 वर्ष से चली आ रही है।’’ लोहाना ने बताया कि भारत में मंदिरों में भगवान को शराब चढ़ाने की परंपरा में कुछ खास नहीं है।

 

 

[घर बैठे रोज़गार पाने के लिए Like करें हमारा Facebook Page और मेसेज करें JOB]

Lost Password

Register