Loading...
दुनिया

केनेल बने क्यूबा के नए राष्ट्रपति

केनेल बने क्यूबा के नए राष्ट्रपति

क्यूबा में एक बड़ा राजनीतिक उल्टफेर हुआ है। क्यूबा में पिछले 56 साल से देश पर राज कर रहे कास्त्रो परिवार ने सत्ता छोड़ दी है। गुरुवार को मिगेल डियाज-केनेल क्यूबा के राष्ट्रपति पद की शपत ली। बता दें कि 1959 से ही क्यूबा में कास्त्रो परिवार का कोई न कोई सदस्य लगातार राष्ट्रपति पद पर काबिज रहा है। ये पहली बार हुआ कि राष्ट्रपति पद के लिए कास्त्रो परिवार का कोई शख्स नही होगा। राउल कास्त्रो साल 2006 से ही क्यूबा के राष्ट्रपति थे। उन्होंने 12 साल क्यूबा के राष्ट्रपति पद पर काबिज थे। इतना ही नहीं इस्तीफा देने के बाद भी वो लगातार सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के प्रमुख के तौर पर बने रहेंगे।

गौरतलब है कि मिगेल डियाज- केनेल पिछले 5 साल तक क्यूबा के उप- राष्ट्रपति रह चुके है। कास्त्रो के इस्तीफे के बाद मिगेल ने राष्ट्रपति पद की शपथ ली। राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के बाद मिगेल ने कहा कि क्यूबा में उन लोगों की जगह नहीं है जो पुंजीवाद यानी की कैपिटलिज्म की सोच पाले हुए हैं। उन्होंने इस बात पर जोर भी दिया कि क्यूबा की विदेश नीति में कोई भी बदलाव नहीं आएगा। अगर बदलाव आता भी है तो वह केवल क्यूबा के लोगों द्वारा ही आएगा।

दरअसल, क्यूबा कम्युनिस्ट विचार धारा से प्रेरित है वहां के नेता पुंजीवाद के शख्त खिलाफ है। बीच बीच में क्यूबा में पुंजीवाद को लेकर आवाज उठती रही है। जानकारों का कहना है कि कास्त्रो के पद छोड़ने के बाद भी क्यूबा में किसी भी तरह का कोई बदलाव नहीं आएगा क्योंकि क्यूबा के नए राष्ट्रपति मिगेल राउल कास्त्रो के करीबी माने जाते हैं। जिस वजह से सत्ता परिवर्तन के बावजूद भी क्यूबा में किसी भी प्रकार के परिवर्तन की उम्मीद नहीं की जानी चाहिए।

बता दें कि मिगेल का जन्म क्यूबा क्रांति के बाद हुआ। क्यूबा क्रांति 1953 से 1959 तक चली।

Lost Password

Register