Loading...
देश

केरल में पहली ट्रांसजेंडर मैरिज ने रचा नया इतिहास

केरल में पहली ट्रांसजेंडर मैरिज ने रचा नया इतिहास

तिरुवंतपुरम: केरल में गुरुवार को हाल ही में एक किन्नर जोड़े द्वारा शादी की गयी। इस जोड़े ने आम समाज और किन्नर समाज के सामने एक नयी मिशाल पेश की है। इस जोड़े ने समाज के सारे बंधन और मान्यताओं को पीछे छोड़ दिया है। इस ऐतिहासिक विवाह का आयोजन तिरुवंतपुरम के नेशनल क्लब में आयोजित किया गया। इस ऐतिहासिक विवाह का हिस्सा बनने और आशीर्वाद देने के लिए केरल के कुछ विशिष्ट लोग और करीब ५०० मेहमान शामिल हुए। इस शादी को सरकार द्वारा मान्यता भी प्राप्त हो गयी है। इन्होंने यह शादी एक विशेष मैरिज एक्ट के तहत की है। इसके साथ ही ये इस राज्य की पहली ट्रांसजेंडर मैरिज भी घोषित हो गयी है। सूर्या मेल से फीमेल बनी है और ईशान फीमेल से मेल। ईशान पेशे से एक उधमी है और सूर्या एक टीवी एंकर के रूप में कार्यरत हैं। ये जोड़ा पहले से एक दूसरे को भली-भांति जानता है ।

झेलना पड़ा जातिगत, सामाजिक और पारिवारिक विरोध

इस जोड़े द्वारा बताया गया कि ऐसा करना आसान नहीं था। हमें समाज और परिवार का विरोध भी झेलना पड़ा। इनके द्वारा यह भी बताया गया कि इनको समाज का जातिगत व्यवहार भी झेलना पड़ा। सूर्या द्वारा बताया गया कि ईशान का मुस्लिम समुदाय से होना परिवार को पसंद नहीं था। परिणाम यह हुआ कि इनको काफी संघर्ष करना पड़ा। अंतः कड़े संघर्ष और लम्बे अंतराल के बाद गुरुवार को पूरे रीति-रिवाज के साथ इनका विवाह हुआ।

इस विवाह से बदलेगा ट्रांसजेंडर के प्रति नजरिया

ईशान और सूर्या दोनों ही ट्रांसजेंडर वेलफेयर बोर्ड के सदस्य हैं। इन्होंने बताया कि उनका यह विवाह समाज के सामने एक नयी मिशाल रखेगा और साथ ही किन्नरों के प्रति आरम्भ से जो नजरिया अपनाया जा रहा है उसको भी बदलने में प्रेरणा देगा। सरकार द्वारा पहले ही साल २०१४ में इस ओर कदम उठाये गए। इसी साल इनको अपने होने या न होने का ज्ञान हुआ। सरकार की ओर से इनके लिए कई नियम बनाये गये और उसमे संशोधन किये गये। ऐसा करना इस वर्ग को सम्मान और अधिकार दिलाने की एक कोशिश है।

 

Lost Password

Register