Loading...
खेल

कोलकाता टेस्ट के बाद भारतीय क्रिकेट में आया बड़ा बदलावःकुंबले

कोलकाता टेस्ट के बाद भारतीय क्रिकेट में आया बड़ा बदलावःकुंबले

2001 में कोलकाता में आस्ट्रेलिया के खिलाफ मिली रोमांचक जीत से भारतीय क्रिकेट में एक क्रांतिकारी बदलाव आया है। ऐसा कहना है टीम इंडिया के पूर्व मुख्य कोच और गेंदबाज अनिल कुंबले का। उन्होंने कहा कि इस जीत से टीम इंडिया को अपनी असली ताकत का अहसास हुआ। जिसके भारत  ने देश के अलावा विदेशों में भी शानदार प्रदर्शन किया है।

मीडिया खबरों के अनुसार, अनिल कुंबले मंगलवार को माइक्रोसॉफ्ट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सत्या नडेला की किताब ‘हिट रिफ्रेश’ पर विशेष परिचर्चा में हिस्सा लेने के लिए पहुंचे थे। जिसमें उन्होंने कहा कि 1983 में मिली विश्व कप जीत से उनके दौर के खिलाड़ियों को काफी प्रेरणा मिली। इसके साथ ही अन्य युवा खिलाड़ियों के अंदर एक विश्वास जगा कि वह भी देश के लिए खेल सकते हैं। दुनिया में किसी भी टीम को हरा सकते हैं।

नडेला ने कुंबले से पूछा कि क्रिकेट में सबसे यादगार पल कौन सा रहा है जिसके जवाब मे कुंबले ने कहा कि 1983 विश्व कप और 2001 में आस्ट्रेलिया के खिलाफ कोलकाता में खेले गए टेस्ट मैच में मिली जीत।

कुंबले ने कहा कि 1983 विश्व कप जीत से हमारे दौर के खिलाड़ियों को प्रेरणा मिली । हमारे लिए 1983 विश्व कप की जीत काफी बड़ी थी। लेकिन मेरे लिए रिफ्रेश मोमेंट 2001 में भारत और आस्ट्रेलिया के बीच खेली गई टेस्ट सीरीज है। कुंबले ने कहा कि इस सीरीज जीत ने हमारे अंदर एक नई ऊर्जा का संचार किया था। हमें इस जीत के बाद पता चला था कि हमारे अंदर कितनी काबिलियत है। उन्होंने कहा कि हालांकि इस सीरीज में मैं टीम का हिस्सा नहीं था। चोट की वजह से बाहर था। लेकिन यह टीम के लिए एक बदलाव लेकर आई। इसके बाद हमने इंग्लैंड का दौरा किया। जहां टेस्ट में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए हमने पहली पारी में 600 रन का स्कोर खड़ा किया। जिससे हमें लगने लगा कि जो हम एक बार कर सकते हैं वह बार बार कर सकते हैं। इससे टीम के अंदर आत्मविश्वास बढ़ा।

कुंबले ने अपने क्रिकेट करियर में बदलाव को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि 2003-2004 का आस्ट्रेलिया दौरे ने उनके करियर को बदल दिया। उन्होंने कहा कि इस दौरे पर मैं अंतिम एकादश में जगह बनाने के लिए संघर्ष कर रहा था। मुझझे पूछा जाता कि मैं संन्यास कब ले रहा हूं।

उन्होंने कहा कि इस दौरे पर सीरीज के दूसरे एडिलेड टेस्ट मैच में मुझे मौका मिला। इस मैच में पहले दिन मैंने 100 रन देकर एक विकेट हासिल किया। इसके बाद मैंने सोचा कि कुछ नया करना है। मैंने अगले दिन लेग स्पिन की जगह पर ऑफ स्पिन के लिए क्षेत्ररक्षण जमाया और मैंने 6 विकेट लिए। इस मुकाबले में हमने जीत हासिल की। राहुल द्रविड़ और लक्ष्मण ने इस मैच में शतक लगाए। उन्होंने कहा कि ये जीत उनके लिए सबसे यादगार पलों में से एक है। इस जीत के बाद मुझे अपनी काबिलियत का पता चला।

 

 

 

[घर बैठे रोज़गार पाने के लिए Like करें हमारा Facebook Page और मेसेज करें JOB]

Lost Password

Register