देश

खुद बताया- वह वकील नहीं, फिर भी 20 साल से कर रहा वकालत

खुद बताया- वह वकील नहीं, फिर भी 20 साल से कर रहा वकालत

इलाहाबाद हाईकोर्ट मे आज उस समय सब भौंचक हो गये जब एक वकील हाथ जोड़कर खड़ा हो गया कि वह वकील नहीं है और 1999 से ऐसे ही वकालत कर रहा है !
इलाहाबाद हाईकोर्ट की नई प्रणाली के तहत वकीलों का एनरोलमेंट नंबर होता है और केस लगने पर एनरोलमेंट नंबर तथा टेलीफोन नंबर मैच करके मैसेज आता है। इलाहाबाद हाईकोर्ट में कोर्ट नम्बर 51 में एक वकील साहब उठ खड़े हुए कि उनके पास केस का मैसेज है लेकिन फाइल नहीं है। मुकदमे में दूसरे वकील बहस कर रहे हैं। बहस कर रहे जीतेंद्र कुमार नामक व्यक्ति से जब न्यायमूर्ति विपिन सिन्हा ने साहब ने सवाल जवाब किया तो घबरा कर जितेंद्र कुमार नामक व्यक्ति हाथ जोड़कर खड़ा हो गया कि वह अधिवक्ता नहीं है और 1999 से इसी तरह वकालत कर रहा है। न्यायपालिका के इतिहास में संभवता पहली बार ऐसा वाकया सामने आया। सभी हक्के-बक्के रह गये। और अंत में पुलिस कस्टडी में उस व्यक्ति को दे दिया गया।

कोर्ट ने अधिवक्ता जितेंद्र कुमार सिंह का गाउन और बैंड भी कोर्ट में ही उतरवा लिया और पुलिस अभिरक्षा में लेकर कोर्ट रूम से महानिबंधक कार्यालय तक ले जाने का निर्देश दिया और महानिबंधक को प्रारंभिक पूछताछ के बाद वकील को मुक्त करने को कहा है.

Lost Password

Register