Loading...
देश / मुख्य खबर

गांव के लोगों को नहीं मिलेगा मुफ्त राशन : किरण बेदी

गांव के लोगों को नहीं मिलेगा मुफ्त राशन : किरण बेदी

पुडुचेरी की लेफ्टिनेंट गवर्नर किरण बेदी के बयान ने एक बार फिर सियासी हलचल पैदा कर दिया है। किरण बेदी ने कहा कि खुले में शौच से मुक्त नहीं होने वाले गांव को मुफ्त चावल नहीं दिया जाएगा। बता दें कि मुफ्त चावल योजना का लाभ पुडुचेरी के लगभग आधी जनता को मिलती है।

किरण बेदी ने इस मामले में ट्वीट कर कहा कि पुडुचेरी के जिन गांवों के लोग खुले में शौच करते हैं और घर का कूड़ा खुले में फेकते हैं। उन्हें मुफ्त चावल नहीं दिया जाएगा। पुडुचेरी की एलजी किरण बेदी ने मुफ्त चावल योजना को खुले में शौच मुक्त वाले प्रमाण पत्र से जोड़ दिया है। बता दें कि खुले में शौच मुक्त वाले प्रमाण पत्र इलाके के विधायकों और ग्रामसभा द्वारा दिया जाता है।

किरण बेदी ने कहा है कि राज्य के ग्रामीण इलाकों में स्वच्छता काफी धीमी गति से हो रही है। जिस वजह से मैं दुखी हूं। उन्होंने कहा कि पिछले दो सालों से मैं देख रही हूं कि किसी भी अधिकारिक या जनप्रतिनिधि ने इस काम को करने के लिए दृढ़ता नहीं देखाई। जिस वजह से मैंने ये फैसला लिया है। उन्होंने कहा कि पुडुचेरी में एक निश्चित समय तक ग्रामिण इलाके को स्वस्थ बनाना है।

बता दें कि राजस्थान के 7600 गांव अब तक खुले में शौच मुक्त हो चुके हैं। अब तक 6 राज्यों को खुले में शौच मुक्त घोषित किया जा चुका है, जिसमें मध्‍य प्रदेश, महाराष्‍ट्र, छत्तीसगढ़, झारखंड, केरल और तेलंगाना शामिल हैं। इन सभी राज्यों के 1,137 शहरों और कस्‍बों को 2 अक्टूबर को खुले में शौच मुक्त घोषित किया गया। इससे पहले आंध्र प्रदेश, गुजरात और चंडीगढ़ ने भी अपने क्षेत्र वाले समस्‍त 281 शहरों और कस्‍बों को खुले में शौच मुक्त घोषित कर दिया था। इन शहरों और कस्‍बों को मिलाने के बाद इस साल 2 अक्‍टूबर तक कुल मिलाकर 1,418 शहर और कस्‍बे खुल में शौच मुक्‍त हो चुके हैं।12

Lost Password

Register