देश / बिज़नेस / मुख्य खबर

जल्द हो सकती है पेट्रोल में 6 रूपये और डीजल में 4 रूपये की कमी।

जल्द हो सकती है पेट्रोल में 6 रूपये और डीजल में 4 रूपये की कमी।

देश में दिन प्रतिदिन पेट्रोल आैर डीजल के दामों में तेजी आ रही है। जिससे पेट्रोल आैर डीजल के दाम आसमान छू रहे हैं। ऐसे हालत में देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक स्टेट बैंक आॅफ इंडिया ने बढ़ती कीमतों पर लगाम कसने के लिए सरकार को एक फाॅर्मूला दिया है। जानकारी के मुताबिक एसबीआई ने बताया है कि अगर इस सुझाव पर अगर सरकार काम करती है तो देश में पेट्रोल आैर डीजल की कीमतों में काम हो सकती है।

बता दें कि एसबीआर्इ ने डीजल और पेट्रोल की कीमतों को कम करने और आम जनता को राहत देने के लिए एक नए ‘प्राइसिंग मकैनिज्मर’ का आईडिया सुझाया है। इस फाॅर्मूले के तहत अगर राज्य सरकार बेस प्राइस पर वैट लगायेगा, तो पेट्रोल की कीमत लगभग 5.75 रुपये प्रति लीटर सस्तास हो सकता है। वहीं इसी तरह अगर डीजल के बेस प्राइस पर वैट लगाया जाता है, तो डीजल प्रति लीटर 3.75 रुपये प्रति लीटर तक सस्ताे हो सकता है।

बता दें कि वर्तमान में पेट्रोल-डीजल पर वैट, उस कीमत पर लगता है, जिसमें केंद्र सरकार का टैक्स भी शामिल हो। वहीं एसबीआर्इ ने पेट्रोल-डीडल के बेस प्राइस पर वैट लगाने का आइडिया दिया है। जिससे पेट्रोल की कीमत लगभग 5.75, तो वहीं डीजल प्रति लीटर 3.75 रुपये तक सस्ता हो सकता है।

लेकिन जानकारी के अनुसार जहां एक तरफ इस फाॅर्मूले से आम जनता को राहत मिलेगी, वहीं रिपोर्ट के अनुसार राज्य सरकार को लगभग 35, 000 से 36,000 करोड़ का राजस्व को नुकसान हो सकता है। बता दें, अंतरराष्ट्रीय बाजार में डीजल और पेट्रोल की बढ़ी कीमतों के बीच केंद्र सरकार से डीजल और पेट्रोल पर सेंट्रल एक्सा‍इज को कम करने की मांग हो रही है।

वहीं वर्तमान समय में केंद्र सरकार पेट्रोल पर प्रति लीटर 19.18 रुपए और डीजल पर प्रति लीटर 15.33 रुपए फिक्सस एक्साेइज ड्यूटी वसूलती है। इसके साथ राज्य पेट्रोल और डीजल के खर्च पर एड वॉलोरेम टैक्सि लगाते हैं। बता दें, गोवा पेट्रोल पर सबसे कम 16.62 फीसदी यह टैक्सॉ लगाता है जबकि महाराष्ट्र पेट्रोल पर सबसे ज्यादा 39.27 फीसदी यह टैक्स लगाता है।

Lost Password

Register