लाइफस्टाइल

जानिए जीभ के रंग से अपने शरीर के राज

जानिए जीभ के रंग से अपने शरीर के राज

आपने नोटिस किया होगा कि जब भी डॉक्टर के पास जाते हैं वे सबसे पहला आपका जीभ देखते हैं। आपको इतना तो जरूर समझ आता है कि इसका आपके स्वास्थ्य से संबंध है लेकिन क्या संबंध है यह आप नहीं समझ पाते।

जीभ आपके शरीर का वह हिस्सा है जो आपको सिर्फ स्वाद नहीं देता, बल्कि इससे आपके स्वास्थ्य की जानकरी भी मिलती है। जीभ देखकर आप अपने स्वास्थ्य का हाल जान सकते हैं। जी हां, जीभ का एक प्राकृतिक रंग होता है जो अगर बदला हुआ दिखे तो यह आने वाले वक्त में आपके बीमार होने का संकेत देता है।

जीभ को मुख्य रूप से तीन हिस्सों में बांटा जा सकता है – अग्र भाग, मध्य भाग तथा सिरा। अग्र भाग सबसे बाहरी हिस्सा है, मध्य भाग में बीच का हिस्सा आता है और सिरा में इसका रूट हिस्सा आता है जो टॉन्सिल से जुड़ा होता है।

जीभ के अग्र और मध्य भाग पर ही मुख्य रूप से टेस्ट बड्स होते हैं।

सामान्यत: यह हल्का गुलाबी रंगत लिए होता है लेकिन अगर इसका रंग ‘ब्लैक, ब्लू, ब्राइट रेड, पर्पल, व्हाइट या येलो’ जैसा कुछ दिखा तो यह आपकी किसी आंतरिक बीमारी का लक्षण हो सकता है जो इस प्रकार हैं:

हल्का पीला या काला होना – खून की कमी। फेंफड़ों की बीमारी का पूर्व संकेत।

बैंगनी – उच्च कोलेस्ट्रोल, ब्रोंकाइटिस, रक्त-संचार में समस्या।

ब्राइट रेड – खून की कमी, विटामिन बी की कमी, आंतों की गर्मी का सूचक।

पीला – डिहाइड्रेशन, बुखार, बहुत अधिक सिगरेट पीने का संकेत।

सफेद परत – पाचन संबंधी परेशानियों का सूचक है। साथ ही बहुत अधिक एंटीबायोटिक खाने के कारण आपके मुंह में बैक्टीरिया का संतुलन बिगड़ने की सूचना भी यह देता है।

ड्राइनेस – जीभ का बार-बार सूखना सलाइवा ग्लैंड में सूजन होने का संकेत है। इसके अलावा रक्त में शुगर की मात्रा बढ़ना या कहें मधुमेह भी इसका कारण हो सकता है। इसलिए अगर ऐसा हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

जीभ में सूजन – यह किसी गंभीर स्वास्थ्य परेशानी की सूचना देता है। यह जीभ के कैंसर होने का भी पूर्व संकेतक हो सकता है। इसके अलावा यह थाइरॉयड, ग्लूकोमिया, एनीमिया आदि का लक्षण भी हो सकता है।

जीभ के ऊपरी हिस्से पर लाल रंग के चकत्ते – दमा या एग्जिमा का संकेत हो सकता है। इसके अलावा यह विटामिन सी की कमी की सूचना भी देता है जो मसूढ़ों में परेशानियां पैदा करता है।

कई बार शुरुआती दौर में बीमारियां उभरकर सामने नहीं आ पातीं। ऐसे में बीमारी बढ़ने से पहले डॉक्टर से संपर्क कर आप भविष्य की परेशानियों से बच सकते हैं।

Share This Post

Lost Password

Register