Loading...
आस्था

दूध से होने वाले टोने-टोटकों से घर में आती है खुशहाली

दूध से होने वाले टोने-टोटकों से घर में आती है खुशहाली

दूध को ज्योतिष शास्त्र में चन्द्रमा का ग्रह माना जाता है। दूध में चीनी के साथ केसर और हल्दी को मिलाकर इससे गुरु कै उपाय किया जाता है। सांप को अगर यह दूध पिला दिया जाए तो इससे राहू का उपाय हो जाता है। अगर दूध में तिल को मिलाकर भोलेनाथ को अर्पित करने से आपके ऊपर से ग्रहों का अनिष्ट टल जाता है। इस प्रकार के दूध के टोटके बहुत पहले से किए जाते हैं। आइए आज आपको प्रचीन ग्रन्थों के माध्यम से दूध से होने वाले टोने-टोटकों के बारे में बताने जा रहे हैं। जिनकों करने से आप अपने जीवन में होने वाली समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं।

नजर

रात्रि में सोते समय रविवार के दिन एक गिलास में दूध को अपने सिरहाने पर रखकर सोजाएं। प्रातः काल उठने के बाद इस गिलास के दूध को किसी बबूल के पेड़ पर डाल दें। इस उपाय को हर रविवार के दिन करने से नजर लगना दूर जाएगा। ऐसा करने से आपके सारे बिगड़े काम भी बनने लगेंगे।

एक्सीडेंट

अगर आपके घर में बार-बार कोई दुर्घटना हो रही है और समझ नहीं आ रहा कि क्या करना चाहिए तो, आमावस्या के तुरंत बाद शुक्ल पक्ष के पहले मंगलवार के दिन 400 दूध ले उसमें चावल को धोकर किसी बहती हुई नदी या फिर किसी झरने में बहा दें। इस उपाय को प्रत्येक मंगलवार करने से आपको दुर्घटना संबंधी परेशानियों से निजात मिलेगी।

कुंडली में ग्रह बुरा

अगर आपकी कुंडली में किसी बुरे ग्रह ने अपना स्थान बना लिया हैऔर आप उससे निजात चाहते हैं तो, सोमवार के दिन सुबह जल्दी उठने के बाद स्नान करें, जिसके बाद शिवजी के मंदिर जाकर शिवलिंग पर कच्चे दूध को चढ़ाएं। इस विधि को लागातार 7 सोमवार करने से शिवजी आपनी मनोकामनाएं पूरी करेंगे। इसके साथ ही आपकी कुंडली से बुरे ग्रहों का प्रभाव भी हट जाएगा।

बीमारी से मुक्ति

अगर आपके घर परिवार में बीमारी पीछा नहीं छोड़ रही है तो, इसके लिए आप सोमवार को रात्रि के समय शिवजी के मंदिर जाकर कच्चे दूध में पानी मिलाकर शिवलिंग पर चढ़ाते हुए हुए 108 बार ऊँ जूं सः का जाप करें। इस उपाय को करने से कुछ ही दिनों में आप बीमारी से निजात पा सकते हैं।

अखंड लक्ष्मी का आव्हान

अपने घर में अखंड लक्ष्मी का वाहन करने के लिए, आथार्त मां लक्ष्मी के स्थाई वास के लिए लोके के किसी साफ बर्तन में दूध, जल, चीनी और घी मिलालें। लोहे के बर्तन में रखे इस मिश्रण को पीपल के पेड़ की जड़ों मं डाल दें। ऐसा करने से आपके घर में माता लक्ष्मी का वास होगा।

इसके साथ ही सोमवार के दिन भगवान शिव के मंदिर में जाकर दूध-मिश्रल जल को शिवलिंग पर चढ़ाते हुए हाथ में रूद्राक्ष की माला लेकर 108 बार ऊँ सोमेश्वराय नमः का जप करें। पूर्णमा के दिन दूध में जल मिलाकर चन्द्रमा को अर्ध्य दें।

Lost Password

Register