देश

नमाज सार्वजनिक जगहों पर नहीं, बल्कि मस्जिदों में पढ़ी जानी चाहिए : सीएम मनोहर लाल खट्टर

नमाज सार्वजनिक जगहों पर नहीं, बल्कि मस्जिदों में पढ़ी जानी चाहिए : सीएम मनोहर लाल खट्टर

हरियाणा के गुरुग्राम में सार्वजनिक स्थलों पर नमाज पढ़ रहे लोगों को हिंदूवादी संगठनों द्वारा भगाने के मामले पर सीएम मनोहर लाल खट्टर ने चुप्पी तोड़ दी है। रविवार को सीएम खट्टर ने कहा कि, नमाज सार्वजनिक स्थलों पर नहीं वल्कि मस्जिद या ईदगाह में ही पढ़ी जानी चाहिए। सीएम खट्टर ने कहा, ‘यह हमारी ड्यूटी है कि कानून और व्यवस्था को बनाए रखा जाए। खुले में नमाज पढ़ने का प्रचलन बढ़ा है। सार्वजनिक स्थानों पर नमाज पढ़ने की बजाय मस्जिद और ईदगाह में जाना चाहिए।’

आपको बता दें कि, बीते शुक्रवार के दिन हरियाणा के गुरुग्राम में हिंदूवादी संगठनों के लोगों ने कई इलाकों पर जाकर नमाज में बाधा पहुंचाई थी। गुरुग्राम के कई इलाकों में लोगों की भीड़ की तरफ से ‘जय श्री राम’ और ‘बांग्लादेशी वापस जाओ’ नारे लगाए जा रहे थे। इसके साथ ही नमाज में बाधा के चलते शहर का माहौल खराब हो गया था। यह घटना शहर के इफको चौक, उद्योग विहार, लेजर वैली पार्क और एमजी रोड इलाके की है।

इस घटना के बाद कॉर्पोरेट एग्जिक्युटिव्स के एक ग्रुप को कैंडर टेकस्पेस के बाहर एक पार्क में भारी सुरक्षा बल के बीच नमाज पढ़नी पड़ी थी। शुक्रवार को गुरुग्राम में हुई घटना की तैयारी करीबन एक महीने से की जा रही थी। वहीं वजीराबाद गांव के कुछ लोगों ने 6 अप्रैल के दिन सेक्टर 43 के ग्राउंड में नमाज पढ़ने को लेकर काफी विरोध किया था। इस घटना के बाद सेक्टर 53 में स्थित पुलिस थाने में इस मामले की रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी जिसके बाद पुलिस ने 6 लोगों को गिरफ्तार किया था।

इस मामले में हिंदूवादी संगठनों के लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कराई गई थी जिसके बाद संयुक्त हिंदू संघर्ष समिति की तरफ से काफी विरोध प्रदर्शन भील किया गया था। विरोध कर रहे लोगों का कहना था कि, जिल छः लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कराई गई है वह सरकारी जमीन पर नमाज को लेकर विरोध कर रहे थे। इसके साथ ही उनका यह भी कहना था कि, करकारी जमीन पर कब्जा करने के लिए वह लोग वहां नमाज पढ़ते थे।

Share This Post

Lost Password

Register