देश / मुख्य खबर

नहीं रहे हिंदी के प्रसिद्ध गीतकार-कवि गोपाल दास नीरज

नहीं रहे हिंदी के प्रसिद्ध गीतकार-कवि गोपाल दास नीरज

हिंदी के प्रसिद्ध कवि गोपालदास नीरज का गुरुवार निधन हो गया। गौरतलब है कि कवि नीरज की तबियत मंगलवार को ख़राब हो गई थी ,जिस वजह से उन्हें आगरा के लोटस अस्पताल में भर्ती कराया गया था। हालांकि बाद में ज्यादा है हालात खराब होने की वजह से उन्हें दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया था। जहां पर उनका निधन हो गया। आप को बता दें कि कवि गोपाल दास का जन्म उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के पुरवली गांव में 4 जनवरी 1925 को हुआ था।

उनकी मौत के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी शोक व्यक्त करते हुए ट्वीट किया। उन्होंने ट्वीट किया-

प्रख्यात कवि श्री गोपाल दास ‘नीरज’ जी के निधन पर गहरा दुःख हुआ। नीरज जी ने अपनी काव्य रचनाओं से हिन्दी साहित्य को समृद्ध किया। उन्हें भावनाओं और अनुभूतियों को व्यक्त करने में दक्षता हासिल थी। हिन्दी फिल्मों के लिए नीरज जी द्वारा लिखे गए गीत आज भी लोकप्रिय हैं।

उन्होंने एक और ट्वीट करते हुए लिखा-

श्री गोपाल दास ‘नीरज’ जी के निधन से साहित्य जगत को जो हानि हुई है, उसकी भरपाई होना कठिन है।, ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति एवं परिजनों को संबल देने की प्रार्थना करता हूँ।

कवि नीरज की मौत पर अखिलेश यादव ने भी दुःख व्यक्त किया। उन्होंने ट्वीट किया-

महान कवि श्री गोपालदास ‘नीरज’ जी के महाप्रयाण पर अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि! उनके अमर गीत हमेशा-हमेशा हमारी स्मृतियों में गूँजते रहेंगे… कारवाँ गुज़र गया…

आप को बता दें कि कवि गोपालदास नीरज को कई बड़े सम्मान से नवाजा जा चुका है। 1991 में पद्मश्री भी मिला था। इसके अलावा 2007 में पद्मभूषण भी मिला था। उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से उन्हें यश भर्ती सम्मान भी मिल चुका है। बॉलीवुड के लिये भी गाने लिख चुके गोपलदास को तीन बार फिल्मफेयर का अवार्ड मिला है।

 

Lost Password

Register