Loading...
मनोरंजन

पद्मावती विवादः भंसाली की सुरक्षा बढ़ाई, दफ्तर के बाहर पुलिस का पहरा

पद्मावती विवादः भंसाली की सुरक्षा बढ़ाई, दफ्तर के बाहर पुलिस का पहरा

फिल्म पद्मावती को लेकर चल रहा विवाद कम होने के नाम ही नहीं ले रहा है। फिल्म को लेकर राजपूत समाज विरोध प्रदर्शन कर रहा है। तो वहीं कई नेताओं ने भी इस फिल्म को लेकर विरोध जताया है। जिसके बाद इसको लेकर राजनीति तेज हो गई है। वहीं इसी बीच फिल्म के डायरेक्टर संजय लीला भंसाली  को पुलिस ने 24 घंटे की सुरक्षा मुहैया कराई है। यह सुरक्षा भंसाली को मिल रही धमकियों को देखते हुए दी गई है। भंसाली की सुरक्षा में 15-16 पुलिस कर्मी उनके मुंबई में जुहू स्थित  दफ्तर के बाहर तैनात कर दिए गए हैं। यह सुरक्षा 1 दिसंबर तक तैनात रहेगी। आपको बता दें कि यह फिल्म एक दिसंबर को रिलीज होगी।

मीडिया खबरों के अनुसार,  फिल्म पद्मावती विवाद को लेकर संजय लीला भंसाली को धमकियां मिल रही थी। जिसके बाद  भंसाली को सुरक्षा मुहैया कराई गई। पुलिस सूत्रों ने भंसाली को दी गई सुरक्षा की पुष्टि की है। जो फिल्म के रिलीज होने तक रहेगी।

आपको बता दें कि फिल्म पद्मावती शूटिंग की शुरुआत से ही विवादों में घिरी रही है। राजस्थान में शूटिंग के दौरान राजपूत करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने फिल्म के सेट के साथ तोड़ फोड़ कर दी थी। साथ ही भंसाली के साथ भी हाथापाई की गई थी। राजपूत समाज का कहना है कि भंसाली ने फिल्म की कहानी गढ़ने के लिए राजपूतों के इतिहास के साथ छेड़छाड़ की है।

स्मृति ईरानी ने साधी चुप्पी

केंद्रीय मंत्री स्मृति ने फिल्म पद्मावती विवाद पर कुछ भी कहने से इंकार कर दिया है। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि जिस स्टोरी के बारे में कभी पढ़ा नहीं, जाना नहीं, देखा नहीं उस विवाद पर मुझे कुछ नहीं कहना है। बता दें कि इससे पहले स्मृति ईरानी ने कहा था कि फिल्म की रिलीज में कोई दिक्कत नहीं आएगी। जरूरत के हिसाब से सरकार द्वारा सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी। पद्मावती विवाद पर स्मृति ईरानी के यू-टर्न की वजह गुजरात चुनाव को माना जा रहा है।

वहीं चुनाव आयोग ने बीजेपी की फिल्म पद्मावती पर रोक लगाने  या  रिलीज डेट को आगे बढ़ाने की मांग को खारिज कर दिया है। बीजेपी ने पत्र लिखकर चुनाव आयोग से मांग की थी। गुजरात बीजेपी अध्यक्ष आईके जाडेजा ने कहा कि गुजरात के राजपूत समाज ने फिल्म पर रोक लगाने या  रिलीज डेट को आगे बढ़ाने की मांग की थी। राजपूत समाज का कहना है कि फिल्म के लिए पद्मावती के इतिहास से छेड़छाड़ की गई है। जिससे पूरे राजपूत समाज की भावनाओं को ठेस पहुंची है।

भंसाली के समर्थन में आए अभिनेता अर्जुन कपूर

अभिनेता अर्जुन कपूर ने ट्वीट कर कहा है कि एक बार फिर से एक व्यक्ति को अपनी रचनात्मकता सिद्ध करनी पड़ रही है। वो एक शानदार फिल्म मेकर हैं।  लोगों को उनकी रचनात्मकता पर भरोसा करना चाहिए। उम्मीद है कि रानी पद्मावती की कहानी को सम्मानीय तरीके से दिखाया जाएगा। उन्होंने कहा कि राजनीति से माहौल गंदा हो जाता है।

गौरतलब है कि फिल्म की कहानी को लेकर काफी विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। राजस्थान में राजपूत समाज शुरू से ही इस फिल्म के विरोध में है। राजपूत करणी सेना का कहना है कि फिल्म के लिए लीला भंसाली ने इतिहास के साथ छेड़छाड़ की है। फिल्म में रानी पद्मावती के अलाउद्दीन खिलजी के साथ ड्रीम सींन्स फिल्माए गए हैं। राजपूत समाज के विरोध के बाद अब इस पूरे विवाद ने राजनीतिक रंग ले लिया है। मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, उमा भारती, राजनाथ सिंह सहित कई बीजेपी नेता इसको लेकर विरोध जता चुके हैं। वहीं राजपूत समाज ने प्रधानमंत्री मोदी को खत लिखकर फिल्म पर रोक लगाने की मांग की है। साथ ही ऐसा नहीं करने पर पूरे देश में राष्ट्रीय आंदोलन करने की धमकी दी है।

 

 

[घर बैठे रोज़गार पाने के लिए Like करें हमारा Facebook Page और मेसेज करें JOB]

Lost Password

Register