Loading...
मनोरंजन

बर्थडे स्पेशल: इस अभिनेता ने खौफनाक अभिनय से दर्शकों के अंदर पैदा किया अलग किस्म का डर

बर्थडे स्पेशल: इस अभिनेता ने खौफनाक अभिनय से दर्शकों के अंदर पैदा किया अलग किस्म का डर

आशुतोष राणा फिल्मी दुनिया की सबसे बेहतरीन कलाकारों में से एक हैं। हालांकि, उन्हें सिर्फ बेहतरीन कलाकार कहा जाना उनकी प्रतिभा का अपमान होगा, वे अपने आप में अभिनय का एक स्कूल हैं। उन्होंने ‘दुश्मन’, ‘जख्म’, ‘हासिल’ और ‘राज’ जैसे फिल्मों में अपने दमदार अभिनय से ये बात साबित की है।

10 नवंबर, 1967 को जन्में आशुतोष राणा ने आज अपने जीवन के 50 बसंत पूरे कर लिए हैं। इन 50 सालों में उन्होंने कई सारे उतार-चढ़ाव देखे हैं। वे 1994 बैच के नेशनल ड्रामा ऑफ स्कूल के छात्र रह चुके हैं। उन्होंने वकालत की पढ़ाई की थी और इसी क्षेत्र में करियर बनाना चाहते थे। लेकिन, बाद में उन्होंने फिल्मी दुनिया में करियर बनाने का फैसला किया और काम की तलाश शुरू कर दी। शुरुआती दौर में तो उन्हें महेश भट्ट ने नाराज होकर फिल्म के सेट से भगा दिया था। इस नाराजगी के पीछे की वजह भी दिलचस्प थी।

दरअसल, आशुतोष राणा ग्रामीण पृष्ठभूमि से आते हैं। इसी वजह से जब वे महेश भट्ट से पहली बार मिले, तो अपने संस्कार और परम्परा के अनुसार उन्होंने महेश भट्ट के पैर छू लिए। महेश भट्ट को ये बात बिल्कुल पसंद नहीं आई। वे पांव छूने को ढोंग और चाटुकारिता समझते थे। यही कारण था कि वे आशुतोष पर बुरी तरह से भड़क गए और डांटकर भगा दिया।

आशुतोष ने इस अपमान के बाद भी अपनी हिम्मत नहीं हारी और ना ही अपने संस्कार को छोड़ा। उस घटना के बाद भी वे जब महेश भट्ट को देखते तो उनके पांव छू लेते थे और महेश भट्ट फिर से गुस्सा हो जाते थे। लेकिन, जब बार-बार डांट के बावजूद आशुतोष राणा नहीं माने तो हार कर महेश भट्ट ने पूछ ही लिया कि आखिर तुम मेरा पैर क्यों छूते हो। आशुतोष ने जवाब दिया कि बड़ों के पैर छूना मेरे संस्कार में है, जिसे मैं नहीं छोड़ सकता। ये सुनने के बाद महेश भट्ट ने आशुतोष को गले से लगा लिया।

इस बाद महेश भट्ट ने टीवी सीरियल स्वाभिमान में उन्हें एक गुंडे का रोल दिया। फिर इन दोनों ने ‘जख्म’, ‘दुश्मन’ जैसी कई बेहतरीन फिल्मों में काम किया।

आशुतोष राणा ने अपने खौफनाक अभिनय से दर्शकों के अन्दर एक अलग ही किस्म का डर पैदा किया। फिर चाहे वो दुश्मन का साइको किलर का किरदार हो या फिर राज के तांत्रिक का। उनकी डायलॉग डिलीवरी कमाल की होती थी। ‘हासिल’ में उन्होंने जिस बेहतरीन तरीके से छात्रनेता का किरदार निभाया, वो उनकी बेहतरीन अभिनय प्रतिभा का नमूना है।

इस दमदार अभिनेता के जन्मदिन के शुभ अवसर नेड्रिक न्यूज उन्हें हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं देता है।

 

 

 

[घर बैठे रोज़गार पाने के लिए Like करें हमारा Facebook Page और मेसेज करें JOB]

Lost Password

Register