Loading...
अजब-गजब

बारिश होने से पहले जानकारी देता है ये मंदिर

बारिश होने से पहले जानकारी देता है ये मंदिर

अगर हम आपसे कहें कि एक मंदिर ऐसा भी है, जहां बारिश होने से पूर्व ही जानकारी मिल जाती है तो आपको शायद इस बात पर यकीन नहीं होगा, लेकिन यह सच है। आज हम आपको एक ऐसे ही मंदिर के बारे में बता रहे हैं। उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर में एक गांव के अंदर एक मंदिर है, जहां कड़क धूप में भी पानी टपकता है और बारिश की शुरुआत होते ही पानी टपकना बंद हो जाता है।

इस मंदिर के अंदर ही छिपा है धूप में पानी और बारिश में छत के रिसाव के बंद होने का रहस्य। यह मंदिर भगवान जगन्नाथ के लिए कई सालों पहले बनाया गया था। वहां के लोग बताते हैं कि बारिश होने के 6-7 दिन पहले मंदिर की छत से पानी टपकने लग जाता है। इसके साथ ही
जिस आकार की बूंदे टपकती हैं, उसी के हिसाब से बारिश होती है। लोग समझ जाते हैं कि अब बारिश होने वाली है, जैसे ही बारिश शुरू होती है, छत अंदर से पूरी तरह सूख जाती है।

भगवान जगन्नाथ के लिए बना ये मंदिर बहुत प्राचीन है। मंदिर के अंदर भगवान जगन्नाथ, बलदाऊ और सुभद्रा की मूर्तियां लगी हुईं हैं। इसके साथ ही सूर्यदेव और पद्मनाभम की मूर्तियां भी लगी हुईं हैं।

वैज्ञानिक भी कर रहे हैं रिसर्च
मंदिर के पुजारी के अनुसार, वहां मंदिर में कई पुरातत्व विशेषज्ञ और वैज्ञानिक आए हैं, लेकिन रहस्य को सुलझा नहीं पाए हैं। बस इतना ही पता चला है कि मंदिर का निर्माण कार्य 11वीं सदी में किया गया था।

उस मंदिर की बनावट बौद्ध मठ के जैसी है। दीवार 14 फीट मोटी हैं, जिससे इसको सम्राट अशोक के शासन काल में बनाए जाने के अनुमान लगाए जा रहे हैं। मंदिर के बाहर मोर का निशान व चक्र बने होने से चक्रवर्ती सम्राट हर्षवर्धन के कार्यकाल में बने होने की संभावना भी हो सकती है।

 

 

[घर बैठे रोज़गार पाने के लिए Like करें हमारा Facebook Page और मेसेज करें JOB]

Lost Password

Register