Loading...
लाइफस्टाइल

बार बार हो रहे गर्भपात से हैं परेशान तो आजमाएं ये आयुर्वेदिक नुस्खे

बार बार हो रहे गर्भपात से हैं परेशान तो आजमाएं ये आयुर्वेदिक नुस्खे

अगर महिला के नाजुक दौर की बात करें तो वो प्रेगनेंसी के दौरान का वक्त होता है। क्योंकि इस अवस्था में वो अपने साथ एक और जान की देखभाल करती है। लेकिन कई बार कुछ अप्रिय घटनाएं जैसे कि गर्भपात, आदि होने से कई महिलाओं के सपने पूरे नहीं हो पाते हैं। गर्भपात होने पर एक महिला टूटकर बिखर जाती है। इसलिए आज हम आपको कुछ तरीके बताएंगे जिनसे आप अनचाहे गर्भपात से आसानी से बच पाएंगी।

पलाश के पत्ते है चमत्कारी
पलाश के पत्ते गर्भ धारण करने के लिए काफी लाभकारी होते हैं। गर्भधारण होने के बाद पहले महीने में एक पत्ता, दूसरे महीने दो पत्ते, इसी तरह हर महीने के हिसाब से उतने पत्ते दूध में मिलाकर प्रेगनेंट महिला को पिलाने से गर्भ सुरक्षित रहता है।

हींग है फायदेमंद
प्रेगनेंसी के शुरुआती दिनों में गर्भपात से बचने के लिए महिलाओं को अपने खाने में हींग को शामिल करना चाहिए। इससे गर्भपात का खतरा कम होता है।

नींबू का रस है खास
नींबू में सही मात्रा में विटामिन सी होता है जो कि गर्भवती महिलाओं के लिए काफी आवश्यक होता है। इसके सेवन से गर्भपात होने का खतरा नहीं रहता।

अनार के पत्ते हैं लाभकारी
अचानक रक्त स्त्रातव होने पर करीब 100 ग्राम अनार के पत्तों को पीसकर पानी में छाने लें। फिर पानी को प्रेगनेंट महिला को पिलाएं। साथ ही लेप बनाकर पेट के नीचे यानि पेडू पर लगाएं। इस उपाय से रक्तस्राव रुक जाएगा।

गाजर का जूस बेहतरीन
जिन महिलाओं के गर्भ ठहरने मे मुश्किल होती है वो एक ग्लास दूध में एक गाजर मिला कर उबाल लें। फिर दूध आधा बाकी रहने पर पिएं। इससे गर्भपात का खतरा नहीं रहता है।

फिटकरी है लाभकारी
रक्तस्त्राव ज्यारदा होने के कारण यदि आपका गर्भपात होने का अंदेशा हो तो एक चम्मच फिटकरी को कच्चे दूध के साथ पानी में मिलाकर लेने से गर्भपात का खतरा टल जाएगा।

Lost Password

Register