Loading...
देश / मुख्य खबर

मदरसा शिक्षा खत्म करने की मांग, शिया वक्फ बोर्ड ने PM को लिखा खत

मदरसा शिक्षा खत्म करने की मांग, शिया वक्फ बोर्ड ने PM को लिखा खत

योगी राज में मदरसों की जैसे आफत सी आ गई है। शिया वक्फ बोर्ड ने मदरसा शिक्षा को खत्म करने की मांग की है। इसके लिए बोर्ड ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक खत भी लिखा है। साथ ही बोर्ड ने ये भी मांग की है कि मदरसों में सीबीएसई और आईसीएसई पाठ्यक्रम को जोड़ा जाए।

शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने कहा कि मदरसों को सीबीएसई और आईसीएसई से संबद्ध होना चाहिए और गैर-मुस्लिम छात्रों को भी इसमें पढ़ने की अनुमति देनी चाहिए। साथ ही मदरसों को धार्मिक शिक्षा को वैकल्पिक बनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस संबंध में उन्होंने प्रधानमंत्री और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा है। रिजवी ने कहा कि ये हमारे देश को और भी मजबूत बना देगा।

रिजवी ने इस दौरान एक विवादित बयान भी दिया है, जिसको लेकर बवाल होना तय है। रिजवी ने सवालिया अंदाज में कहा कि कितने मदरसों ने इंजीनियरों, डॉक्टरों या आईएएस अधिकारियों को पैदा किया है ? हां…कुछ मदरसों ने आतंकवादी जरूर पैदा किए हैं।

वसीम रिजवी ने पीएम को लिखे अपने पत्र में मदरसों की फंडिंग पर भी सवाल उठाए हैं। उन्होंने लिखा है कि अधिकतर मदरसों की फंडिंग आतंकवादी संगठन करते हैं और ये पैसा बांग्लादेश और पाकिस्तान जैसे देशों से आता है। उन्होंने कहा है कि इसकी जांच की जानी चाहिए।

वहीं AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी को जोकर करार दिया है। ओवैसी ने कहा कि वसीम रिजवी सबसे बड़े जोकर और अवसरवादी व्यक्ति हैं। उन्होंने अपनी आत्मा को आरएसएस को बेच दिया है। उन्होंने कहा कि मैं वसीम रिजवी को चैलेंज देता हूं कि वो एक भी शिया, सुन्नी या मदरसा दिखा दें, जहां इस तरह की शिक्षा दी जाती है। अगर उनके पास इस बारे में कोई सबूत है तो उन्हें जाना चाहिए और इसे गृहमंत्री को दिखाना चाहिए।

Lost Password

Register