देश

मोदी सरकार देश भर में बनाएगी स्वास्थ्य मित्र, आयुष्मान स्कीम से कर सकेंगे कमाई, तय सैलरी के साथ मिलेगा इंसेंटिव

मोदी सरकार देश भर में बनाएगी स्वास्थ्य मित्र, आयुष्मान स्कीम से कर सकेंगे कमाई, तय सैलरी के साथ मिलेगा इंसेंटिव

मोदी सरकार ने कुछ दिन पहले जनधन योजना चलाई चलाई थी. अब इसी तर्ज पर मोदी सरकार आयुष्मान योजना के लिए बड़ा दांव लगाने जा रही है. इस योजना के अंदर देश भर में स्नास्थय मित्र बनाए जा सकते हैं, जो कि स्कीम के तहत लोगों का बीमा करवाने के साथ इलाज की सुविधा भी दिलाएंगे. इस काम के बदले इन स्वास्थ्य मित्रों को एक निश्चित सेलरी के साथ इंसेटिव भी मिलेगा. स्वास्थ्य मित्र ठीक उसी तरह होंगे जैसे अभी जनधन योजना में बैंक मित्र लोगों का खाता खुलवाने के साथ-साथ बैंकिंग ट्रांजैक्शन कराते हैं. इस संबंध में मंत्रालय स्तर पर विचार-विमर्श चल रहा है. सरकार की योजना 15 अगस्त 2018 को आयुष्मान स्कीम लॉन्‍च करने की है.

क्या है भारत आयुष्मान स्कीम

इस बार बजट की के दौरान आयुष्मान भारत स्कीम कीघोषड़ा बहुत जोर-शोर से की गई थी. इस स्‍कीम के तहत देश के 10 करोड़ परिवारों को 5 लाख रुपए तक के फ्री हेल्थ इंश्योरेंस की सुविधा दी जाएगी. इसमें लगभग सभी गंभीर बीमारियों का इलाज कवर होगा. कोई भी व्यक्ति (विशेष रूप से महिलाएं, बच्चे और बुजुर्ग) इलाज से वंचित न रह जाए, इसके लिए स्कीम में फैमिली साइज और उम्र पर कोई सीमा नहीं लगाई गई है. इस स्कीम में हॉस्पिटलाइजेशन से पहले और बाद के खर्च को भी शामिल किया गया है. हर बार हॉस्पिटलाइजेशन के लिए ट्रांसपोर्टेशन अलाउंस का भी उल्लेख किया गया है, जिसका भुगतान लाभार्थी को किया जाएगा. इलाज देश के किसी भी सरकारी या प्राइवेट अस्पताल में कैशलेस इलाज कराया जा सकेगा.

स्वास्थ्य मित्र की क्यों है जरूरत

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के एक वरिष्‍ठ अधिकारी के मुताबिक, आयुष्‍मान भारत स्‍कीम के तहत सरकार का फोकस गरीब और वंचित तबके के लोगों को इलाज की सुविधा उपलब्‍ध कराने पर है. इसलिए इन लोगों को आसानी से इस स्‍कीम में जोड़ने के लिए सरकार को उन्‍हीं के बीच के आम लोगों की जरूरत होगी, जो लोगों को आयुष्‍मान स्‍कीम के फायदे बता सकें और स्‍कीम से जुड़ने के लिए राजी कर सकें. इसके अलावा लोगों को आसानी से इंश्‍योरेंस का लाभ मिल सके, ये सुनिश्चित करने में भी स्‍वास्‍थ्‍य मित्र मददगार होंगे.

कैसे होगी कमाई

जनधन योजना में शामिल बैंक मित्र को 5000 रुपए की तय रकम और उनके काम के मुताबिक इसेंटिव मिलता है. सूत्रों के मुताबिक, स्‍वास्‍थ्‍य मित्रों के लिए भी इसी तरह का प्रावधान होगा और यही उनकी कमाई का जरिया बनेगा. स्‍वास्‍थ्‍य मित्र बनाने की कवायद उन लोगों के लिए काफी मददगार साबित हो सकती है, जिनकी इनकम का कोई जरिया नहीं है. स्वास्‍थ्‍य मित्र की संख्‍या की बात करें तो देश में इस वक्‍त 32 करोड़ जनधन अकाउंट और 1.25 लाख बैंक मित्र हैं. इस आधार पर 10 करोड़ परिवारों तक आयुष्‍मान स्‍कीम का लाभ पहुंचाने के लिए सरकार को कम से कम 1 लाख स्‍वास्‍थ्‍य मित्रों की जरूरत पड़ने का अंदाज है. साथ ही सूत्रों का यह भी कहना है कि इस बात की भी संभावना है कि सरकार मौजूदा बैंक मित्रों को भी इस स्‍कीम में शामिल कर ले यानी वह स्‍वास्‍थ्‍य मित्र की जिम्‍मेदारी भी संभालें.

आयुष्मान स्कीम का किसको लाभ मिलेगा

आयुष्‍मान स्‍कीम का फायदा कौन ले सकेगा, इसके लिए सरकार की तरफ से कई सारे मानक तय किए गए हैं. स्‍कीम में गरीब परिवारों के चयन का आधार सामाजिक-आर्थिक जाति जनगणना -2011 को बनाया गया है.

ग्रामीण क्षेत्र में रहते हैं तो ये हैं शर्तें

-एक कमरे का कच्‍चा मकान, खपरैल में रहने वाली फैमली और ऐसी फैमली जिनमें 16 से 59 वर्ष के बीच की उम्र का कोई अडल्‍ट सदस्‍य न हो.

-महिला मुखिया वाले परिवार, जिनमें 16 से 59 वर्ष के बीच का कोई पुरुष न हो.

-ऐसे परिवार जिनमें विकलांग सदस्‍य हों और उसकी देखरेख करने वाला कोई अडल्‍ट सदस्‍य परिवार में न हो.

-एससी और एसटी के अलावा ऐसे परिवार जिनके पास जमीन न हो और उनकी आमदनी कैजुअल मजदूरी हो.

– जिन परिवारों के पास छत न हो और कानूनी रूप से बंधुआ मजदूरी से मुक्‍त कराए गए हों.

शहरी क्षेत्र में रहते हैं तो ये हैं शर्तें

– सरकार ने शहरी क्षेत्र में रहने वाले गरीबों को स्‍कीम का फायदा मिलेगा.

– गरीबों के चयन के लिए कई कैटेगरी बनाई गई हैं.

– कुल मिलाकर 11 कैटेगरी में शहरी गरीबों को बांटा गया है, जो इस स्‍कीम का फायदा ले सकेंगे.

Lost Password

Register