दुनिया / देश

सीमा मुद्दे पर भारत-चीन के बीच अहम बैठक इसी हफ्ते

सीमा मुद्दे पर भारत-चीन के बीच अहम बैठक इसी हफ्ते

भारत और चीन डोकलाम विवाद के बाद 22 दिसंबर को पहली बार सीमा को लेकर अधिकारिक तौर पर बातचीत करने जा रहे हैं। दोनों देश सीमा को लेकर 20 राउंड की बातचीत करने जा रहे हैं।  सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और चीन के स्टेट काउंसिलर यांग जेची के बीच होने वाली इस अहम बातचीत से पहले एक बार फिर से चीन ने डोकलाम विवाद को याद किया है। चीन ने कहा दोनों देशों के आपसी संबंध मजबूत है। डोकलाम गतिरोध इसका सबसे बड़ा उदाहरण है। चीन ने कहा कि डोकलाम जैसी घटनाओं से सीख लेने की जरूरत है, ताकि भविष्य में फिर से ऐसी घटनाओं से बचा जा सके।

मीडिया खबरों के अनुसार, चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ ने कहा कि इस बातचीत में केवल सीमा मुद्दों को लेकर ही बातचीत नहीं की जाएगी, बल्कि इसमें दोनों देश अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर भी विचार साझा करेंगे। उन्होंने कहा कि यह बातचीत दोनों देशों के बीच रणनीतिक वार्तालाप एक प्लेटफॉर्म है। उन्होंने कहा कि 2017 में डोकलाम गतिरोध के बावजूद चीन-भारत के संबंध अच्छे रहे। हालांकि यह विवाद दोनों देशों के संबंधों की एक अहम परीक्षा था, लेकिन दोनों देशों ने कूटनीतिक तरीके से इसका हल निकाला लिया। संबंधों पर इसका कोई असर नहीं पड़ने दिया। उन्होंने कहा कि भविष्य में फिर से डोकलाम जैसा विवाद ना हो इसके लिए दोनों देशों को इससे सीख लेने की जरूरत है।

क्या डोकलाम विवाद का असर इस वार्ता पर भी पड़ेगा, इसके जवाब में चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ने कहा कि हाल ही में दिल्ली में भारत, चीन और रूस के विदेशमंत्रियों के बीच बैठक हुई थी। उसमें भी इस मुद्दे पर चर्चा की गई थी। इसके अलावा चीन के विदेश मंत्री वांग ने भारतीय समकक्ष के सामने भी इस मुद्दे को उठाया था।

आपको बता दें कि सिक्किम के डोकलाम सीमा को लेकर भारत और चीन के बीच तनाव आ गया था। डोकलाम को लेकर दोनों देशों की सेनाएं 78 दिनों तक आमने सामने रही थीं। हालांकि बाद में दोनों देशों ने यहां से पीछे हटने का फैसला कर लिया।

 

 

 

 

[घर बैठे रोज़गार पाने के लिए Like करें हमारा Facebook Page और मेसेज करें JOB]

Share This Post

Lost Password

Register