Loading...
खेल

हमारे बीच नहीं रहे मिल्खा सिंह

हमारे बीच नहीं रहे मिल्खा सिंह

क्रिकेट जगत के चर्चित चेहरों में से एक हैं ए.जी. मिल्खा सिंह। चेन्नई के एक अस्पताल में शुक्रवार रात मिल्खा सिंह को दिल का दौरा पड़ा और उनकी मौत हो गई। उनकी उम्र 75 साल थी। उनके परिवार में उनकी पत्नी, एक बेटा और एक बेटी भी है। मिल्खा सिंह ने भारत के लिए 60 के दशक में 4 टेस्ट मैच खेले थे। साथ ही उनके भाई ने भी क्रिकेट खेला है। मिल्खा के भाई ने टीम इंडिया के लिए 14 टेस्ट मैच खेले हैं। मिल्खा और उनके भाई ने साथ में 1961-62 में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट मैच खेला था।

बीसीसीआई ने जताया शोक

मिल्खा सिंह के निधन पर बीसीसीआई ने शोक जताते हुए एक बयान जारी किया। उन्होंने कहा कि ‘बोर्ड पूर्व टेस्ट क्रिकेट खिलाड़ी मिल्खा सिंह के निधन पर शोक जताता है। सिंह ने टीम के लिए 4 टेस्ट मैच खेल थे। उन्होंने 18 साल की उम्र में ही भारत के लिए पदार्पण किया था।’ पूर्व भारतीय कप्तान बिशन सिंह बेदी ने भी मिल्खा सिंह के निधन पर शोक जताया।

17 साल की उम्र में खेली थी रणजी ट्रॉफी

मिल्खा सिंह बाएं हाथ के आक्रामक बल्लेबाज और कुशल फील्डर थे। साथ ही 17 साल की उम्र में मिल्खा सिंह ने रणजी ट्रॉफी में पदार्पण किया। वहीं पहला टेस्ट उन्होंने अपने 18वें जन्मदिन के तुरंत बाद खेला, ये मैच उन्होंने मद्रास की तरफ से खेला और रणजी में अच्छा प्रदर्शन किया। मिल्खा सिंह ने 88 प्रथम श्रेणी मैचों में 35.44 की औसत से 4324 रन अपने बल्ले से उगले। जिसमें 8 शतक और 27 अर्धशतक शामिल हैं। 1961-62 में आयोजित दिलीप ट्रॉफी चैंपियनशिप के पहले मैच में साउथ जोन के खिलाफ 151 रनों की शानदार पारी खेली थी, ये उनके प्रथम श्रेणी के मैचों में सर्वश्रेष्ठ स्कोर था।

स्टेट बैंक में नौकरी करते थे मिल्खा सिंह

मिल्खा सिंह का जन्म 31 दिसंबर 1941 को मद्रास(चेन्नई) में हुआ था। उनके निधन पर काफी हस्तियों ने शोक जताया। मिल्खा सिंह ने भारतीय स्टेट बैंक में नौकरी की हुई है।

 

 

[घर बैठे रोज़गार पाने के लिए Like करें हमारा Facebook Page और मेसेज करें JOB]

Lost Password

Register