देश

Teachers Day Special: ये है भारतीय इतिहास के महान गुरु, जिनको दुनिया आज भी करती है नमन

Teachers Day Special: ये है भारतीय इतिहास के महान गुरु, जिनको दुनिया आज भी करती है नमन

भारत में शिक्षक दिवस डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की याद में मनाया जाता है। लेकिन अगर देखा जाए तो प्राचीन काल से ही गुरूओं का स्थान सबसे ऊपर रहा है। प्राचीन काल में जितने भी बड़े राजा थे वे अपनी गुरु के मार्गदर्शन में ही एक महान राजा के रूप में जाने गए। तो चलिए आज हम आपको भारतीय इतिहास के कुछ महान गुरूओं के बारें में बताने जा रहे हैं। 

via

गुरु वशिष्ठ
गुरु वशिष्ठ भगवान राम, लखन, भरत और शत्रुघ्न के गुरु थे। गुरु वशिष्ठ के कहने पर ही दशरथ ने अपने चारों पुत्रों को ऋषि विश्वामित्र के साथ आश्रम में राक्षसों का वध करने के लिए भेज दिया था. गुरु वशिष्ठ को राजा बने बिना जो सम्मान  प्राप्त था उसके सामने राजा का पद छोटा दिखता था.

via

द्रोणाचार्य
गुरु द्रोणाचार्य का नाम इतिहास के पन्नो में शुमार है। ऐसा कहा जाता है कि द्रोणाचार्य का जन्म उत्तरांचल की राजधानी देहरादून में हुआ था। महाभारत युद्ध के समय वह कौरव पक्ष के सेनापति थे। आपको बता दें कि गुरु द्रोणाचार्य को एकलव्य ने अपना अंगूठा गुरु दक्षिणा के रूप में दिया था। 

via

वेदव्यासमहर्षि 

वेदव्यास महर्षि महाभारत के रचयिता थे। एसा माना जाता है कि महर्षि वेदव्यास का जन्म त्रेता युग के अन्त में हुआ था और वह पूरे द्वापर युग तक जीवित रहे थे। वेदव्यास महाभारत के रचयिता ही नहीं, बल्कि उन घटनाओं के साक्षी भी रहे हैं, जो क्रमानुसार घटित हुई हैं। 

Lost Password

Register